हर चीज़ न किसी को मिलती है, न मिलेगी ; शिक्षादायक कहानी

मेरे सामने ही एक पूरी फैमिली बैठी थी। मम्मी, पापा, बेटा और बेटी। हमारी टेबल उनकी टेबल के पास ही थी। हम अपनी बातें कर रहे थे, वो अपनी। …

हेलो ज़िन्दगी; जब फेसबुक और व्हाट्सएप्प सब भूल गया

हेलो ज़िंदगी  दादा दादी कुछ दिनों के लिए हमारे साथ रहने आये थे। खाने की टेबल लग चुकी थी। आज खुद दादी ने सबका मनपसन्द खाना बनाया था। दादा …

तो इस कारण तोता पिंजरे में कैद और कोयल आजाद रहती है

कोयल अपनी भाषा बोलती है, इसलिये आज़ाद रहती हैं. किंतु तोता दूसरे कि भाषा बोलता है, इसलिए पिंजरे में जीवन भर गुलाम रहता है. अपनी भाषा, अपने विचार और …

जब सुकरात ने अपनी पत्नी के गुस्से को शांत स्वभाव से शांत किया

महान यूनानी दार्शनिक सुकरात के व्यवहार में अहंकार नहीं था। वे बहुत लोकप्रिय, अत्यंत सहज, सहनशील और विनम्र स्वभाव के थे। नम्र स्वभाव के सुकरात की पत्नी बहुत गुस्से …