एक न एक दिन मंजिल मिल ही जाएगी, क्योंकि…

एक ना एक दिन मंज़िल मिल ही जाएगी…
ठोकरें , ज़हर थोड़े है जो खा कर मर जाऊंगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *