बिना संघर्ष के चमक नहीं मिलती

जो मुस्कुरा रहा है, उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में ज़रूर छाला होगा,
बिना संघर्ष के चमक नहीं मिलती,
जो जल रहा है तिल-तिल, उसी दीए में उजाला होगा…

Leave a Reply