जो छोटे मसलो में सच को गंभीरता से नही लेता….

जो छोटे मसलों में सच को
गंभीरता से नहीं लेता,

उस पर बड़े मसलों में भी
भरोसा नहीं किया जा सकता।

Leave a Reply