ख्वाहिशें कम हो तो…

ख्वाहिशें कम हो तो,
आ जाती है नींद पत्थरों पर भी

वरना बहुत चुभता है,
मखमल का बिस्तर भी।

Leave a Reply