मूर्खों से तारीफ सुनने से बेहतर…

मूर्खों से तारीफ़ सुनने से
बुद्धिमान की डांट सुनना
ज्यादा बेहतर है।

Leave a Reply